< बुन्देलखण्ड मे पेयजल संकट दूर करने की कवायद तेज Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News बुन्देलखण्ड मे हर साल गर्मी के महीनों में भीषण पेयजल "/>

बुन्देलखण्ड मे पेयजल संकट दूर करने की कवायद तेज

बुन्देलखण्ड मे हर साल गर्मी के महीनों में भीषण पेयजल संकट हो जाता है। पशु-पक्षी और मानव पानी के अभाव में दम तोडते नजर आते है। इस साल बारिश कम होने से पीने के पानी की किल्लत को देखते हुए योगी सरकर ने पहले से कमर कस कर अफसरों को निर्देश दिये है कि बुन्देलखण्ड में ऐसा बंदोबस्त करें जिससे पेयजल संकट की नौबत ही न आये। सरकार की मंशा को देखते हुए बुन्देलखण्ड के सभी जनप्रतिनिधियों से विचार विमर्श करके कार्य योजना  तैयार की जा रही है।

कल बुन्देलखण्ड के सभी सातों जनपदों के जनप्रतिनिधि सांसद और विधायकों की मौजूदगी में दोनों मण्डलों बाँदा और चित्रकूट मण्डल के कमिश्नर और प्रभारी मंत्री महेन्द्र सिंह की बैठक हुई। जिससे सांसद और विधायको ने अपने-अपने क्षेत्र की समस्याएं रखी जिन पर सारा दिन मंथन चलता रहा। बैठक में बाँदा-चित्रकूट सांसद भैरव प्रसाद मिश्र ने कहा कि बाँदा नगर में पेयजल आपूर्ति के लिए यमुना नदी से पाइप लाइन बिछाई जायें और रास्ते में पड़ने वाले गाँव की संतृप्त किये जाये और तीन हजार आबादी वाले गाँवों को पाइप लाइन से जोड़े जाये। हर विधानसभा क्षेत्र में सांसद कोटेे से 100-100 हैण्डपम्प दिये जाये और चित्रकूट जनपद के ग्रामों में यमुना नदी से पेयजल आपूर्ति की जाये। राजापुर एवं मानिकपुर में पेयजल समस्या के समाधान के लिए टयूबवेलों का रिबोर कराया जाये व सांसद कोटे से प्रति विधानसभा के हिसाब से 400 हैण्डपम्प की मांग की।

बाँदा सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी ने भी पेयजल समस्या का समाधान करने से कार्ययोजना बनाने की मांग की। इसी तरह उरई के सदर विधायक गौरी शंकर वर्मा और माधौगढ़ विधायक मूलचन्द्र निरंजन ने भी पेयजल समस्या की मांग की।

सातों जिलों के जनप्रतिनिधियों द्वारा दिये गये सुझाव के आधार पर पेयजल संकट दूर करने की कवायद तेज कर दी गई है। इसके लिए मण्डल मुख्यालय में कन्ट्रोल रूम बनाया जायेगा और जिस स्थान पर पेयजल संकट होगा वहां मात्र 45 मिनट मे पानी का टैंकर पहुंचाने के निर्देश दिये गये।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें