?> पशु-पंक्षियों पर बरसे ओले, ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन बुन्देलखण्ड का No.1 न्यूज़ चैनल । बुन्देलखण्ड न्यूज़ जनपद में हुई भीषण ओलावृष्टि में बड़ी संख्या में पंक्षी"/>

पशु-पंक्षियों पर बरसे ओले, ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन

जनपद में हुई भीषण ओलावृष्टि में बड़ी संख्या में पंक्षी, तोते कौवे, कुत्ते और सांप आदि मर गए है। साथ ही खेत ओलों से पट गये है। इसके बाद भी दैवी आपदा से हुए नुकसान का जायजा लेने प्रशासनिक अधिकारी नही पहंुचे तो ग्रामीणों ने जिलाधिकारी आवास को घेर लिया।

बीती रात रूक-रूक हुई बारिश से जिले के एक दर्जन गाँवों के खेत ओलों से पट गये है। कही-कही आधा घण्टे तक 100 से 200 ग्राम तक के ओले बरसे जिससे खेतों में खड़ी गेहूं, मटर और सरसों की फसल नष्ट हो गई। सबसे ज्यादा तिन्दवारा, बड़ोखर, खुरहण्ड व अतर्रा क्षेत्र में दर्जनों गाँवों में ओलावृष्टि हुई। इसके अलावा नरेनी क्षेत्र व ग्राम निवादा में ओलावृष्टि का कहर पशु पक्षियों और जीव जंतुओं पर टूट पड़ा।

ग्रामीणों के मुताबिक इस गांव में सैकड़ों तोते, कबूतर, कौवों, सांप व कुत्ते के बच्चे, गाय इत्यादि मर गए है। साथ ही फसल भी नष्ट हो गई । जब घटना की जानकारी प्रशासन को दी गई तो प्रशासनिक अधिकारियों ने रटारटाया जबाव दिया कि जांच कर मुआवजा दिया जायेगा। लेकिन घटना से हुई तबाही देखने के लिए कोई भी अधिकारी मौकेपर नही पहुंचा। जिससे उत्तेजित हुए ग्रामीणों ने शाम को जिलाधिकारी कार्यालय का घेराव किया और ज्ञापन देकर तत्काल मौके पर जांच टीम भेजने की मांग की। इस दौरान वहां मौजूद सिटी मजिस्ट्रेट रमेश चन्द्र तिवारी को ग्रामीणों ने ओलावृष्टि से घरों के टूटे खपरहल व 18 घण्टे बाद भी जमे हुए ओले दिखाएं। इस दौरान तमाम लोगों ने अपने घर में होने वाली शादियों में नुकसान समान की भी जानकारी दी।



चर्चित खबरें