< 45 मदरसों पर लटक सकती है तलवार Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News बार-बार चेताने के बाद भी मदरसे पोर्टल पर डेटा अपलोड न"/>

45 मदरसों पर लटक सकती है तलवार

बार-बार चेताने के बाद भी मदरसे पोर्टल पर डेटा अपलोड नहीं कर रहे हैं। इससे उनके फर्जीवाड़े की आशंका बलवती होने लगी है। अभी भी 45 मदरसे ऐसे हैं जिन्होंने इस दिशा में कोई रुचि नहीं दिखाई। इन मदरसों को अंतिम मौका दिया गया है। वे यदि 10 फरवरी तक अपलोडिंग नहीं करते तो उनकी मान्यता रद्द हो सकती है।

अभी तक मदरसों पर सरकार जी खोलकर पैसा लुटाती थी। नतीजा यह हुआ कि गली कूचों में मदरसों की बाढ़ सी आ गई। कई मदरसों में एक ही छात्र के नाम दर्ज कर लिए गए। स्टाफ के मामले में भी ऐसा किया गया। दीवार पर बार्ड टांगकर एक ही कमरे में मदरसे की कक्षाएं और कार्यालय संचालित होने लगे। कई मदरसे तो केवल कागजों में ही चले। वोटों की राजनीति हो या दूसरे कारण किसी सरकार ने उनके खिलाफ कार्रवाई की जहमत नहीं उठाई। प्रदेश में योगी सरकार बनते ही फर्जी मदरसों पर लगाम कसने की तैयारी की गई। इसके लिए फरमान जारी कर निर्देश दिए गए कि सभी मदरसे मदरसा पोर्टल पर अपना विवरण डालेंगे। इसमें उन्हें मदरसा का नामए स्थायी पताए क्षेत्रफलए छात्र व स्टाफ संख्याए अध्यापकों की संख्याए उपलब्ध सुविधाओं का पूरा विवरण दर्ज करना था। अपलोडिंग की अंतिम तिथि 31 दिसंबर की तारीख अंतिम तय की गई। जिले में पांच अनुदानित सहित कुल 427 मदरसे पंजीकृत हैं। तय तिथि तक 382 ने तो मदरसा पोर्टल पर विवरण डाल दिया लेकिन 45 अब भी ऐसा नहीं कर पाए हैं। इन मदरसों को चिह्नित कर लिया गया है। चूंकिए तय तिथि तक पोर्टल बंद हो गया था लिहाजा मदरसों ने और समय मांगा। इस पर विचार करते हुए शासन ने एक फरवरी को पोर्टल फिर से चालू कर दिया हैए लेकिन अब भी चिह्नित मदरसे अपलोडिंग में रुचि नहीं दिखा रहे हैं।

जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी अमित प्रताप सिंह ने बताया कि 10 फरवरी अंतिम तिथि तय की गई है। अगर इस तिथि तक मदरसे अपना विवरण मदरसा पोर्टल पर अपलोड नहीं करेंगे तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इसमें मान्यता रद्द करने जैसा कदम भी उठाया जा सकता है। उन्होंने बताया कि मदरसा शिक्षकों के आधार कार्ड लिंक करने के भी निर्देश दिए गए हैं। फरवरी से शिक्षकों का वेतन उनके बैंक खाते में ट्रांसफर किया जाएगा। जिन शिक्षकों का आधारकार्ड लिंक नहीं होगा उनका वेतन रोक दिया जाएगा।

शिक्षकों की लगेगी बायोमैट्रिक हाजिरी
अनुदानित मदरसों में कार्यरत शिक्षकों की हाजिरी अब बायोमैट्रिक लगाई जाएगी। इसके लिए तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। गौरतलब है कि एक शिक्षक दो से अधिक मदरसों में कार्यरत दिखाकर डबल पेमेंट प्राप्त कर रहा है जो नियमानुसार गलत है। बायोमैट्रिक उपस्थिति और आधारकार्ड लिंक होने से इस तरह के फर्जीवाड़े पर रोक लगेगी और शिक्षकों को प्रतिदिन मदरसा आना मजबूरी हो जाएगी।

 

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें