स्वास्थ्य मंत्री ने मेडिकल काॅलेज का किया निरीक्षण, सीएमओ को लगाई फटकार


उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सुरेश खन्ना ने आज राजकीय मेडिकल काॅलेज का निरीक्षण किया और कहा कि यहां भी जल्दी ही छोटी टेस्टिंग लैब स्थापित की जाएगी ताकि ज्यादा से ज्यादा संक्रमित मरीजों की जांच हो। सरकार चाहती है कि 15 दिन के अंदर प्रदेश में कम से कम एक दिन में 25000 मरीजों की जांच हो सके। तभी हम कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोक सकते हैं।


श्री खन्ना ने मेडिकल काॅलेज पहुंचकर कोविड-19 से संबंधित मरीजों के बारे में जानकारी ली और वहां की सारी व्यवस्थाएं देखी। इसके बाद उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि हम यहां यह देखने आए थे कि कोविड-19 से संबंधित मरीजों के इलाज के लिए जो सुविधाएं सरकार दे रही है, वह सुविधाएं मरीजों को मिल रही हैं या नहीं मिल रही है। उन्होंने यह भी कहा कि मैं प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को बधाई देता हूं जिनकी की व्यवस्थाओं के कारण ही आज हम कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोक सके हैं और ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग करके संक्रमित मिले मरीजों का समुचित इलाज करके मृत्यु दर को कम करने की कोशिश की जा रही है। 


स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि संक्रमित मरीजों के इलाज में किसी तरह की कमी नहीं होने पाएगी। ज्यादा से ज्यादा वेंटिलेटर की व्यवस्था की जा रही है ताकि कोई भी मरीज इलाज के अभाव में न मरने पाए। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि मेडिकल काॅलेज में किसी तरह की अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इसी दौरान भाजपा नेताओं ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी की शिकायत की इस पर मंत्री ने सीएमओ को फटकार लगाई। उन्होंने यह भी कहा कि इस महामारी को रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क का प्रयोग बहुत जरूरी है। इसके लिए व्यापक प्रचार प्रसार किया जाए और हर तरह से लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क पहनने के लिए बाध्य किया जाए, तभी हम इस महामारी को हराने में कामयाब हो सकते हैं।


इसके पहले स्वास्थ्य मंत्री हेलीकाॅप्टर के जरिए पुलिस लाइन पहुंचे जहां पर उनकी अगवानी सांसद आरके सिंह पटेल, सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी ने किया। इस मौके पर जिला अधिकारी अमित सिंह बंसल, पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ शंकर मीणा, सिटी मजिस्ट्रेट सुरेंद्र सिंह, एडीएम, सीओ सिटी, शहर कोतवाल, भाजपा जिलाध्यक्ष रामकेश निषाद, जगराम सिंह, स्वदेश गौरव शिवहरे, संतोष गुप्ता इत्यादि मौजूद रहे।